General

महिला सशक्तिकरण पर निबंध – Women empowerment in Hindi

हेलो दोस्तो आज का लेख महिला सशक्तिकरण और इससे जुड़ी सभी जानकारियों पर लिखा है। अब आप क्यों इंतज़ार कर रहे हैं, चलिए शुरू करते हैं

अपनी निजी स्वतंत्रता और स्वयं के फैसले लेने के लिए महिलाओं को अधिकार देना ही महिला सशक्तिकरण है। महिला सशक्तिकरण को बेहद आसान शब्दों में परिभाषित किया जा सकता है कि इससे महिलाएँ शक्तिशाली बनती है जिससे वो अपने जीवन से जुड़े हर फैसले स्वयं ले सकती है और परिवार और समाज में अच्छे से रह सकती है।

समाज में महिलाओं के वास्तविक अधिकार को प्राप्त करने के लिये उन्हें सक्षम बनाना महिला सशक्तिकरण है। महिला सशक्तिकरण का उद्देश्य होता है महिलाओं को शक्ति प्रदान करना जिससे वे हमारे समाज में पीछे न रह सके और पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर फैसले ले सकें तथा गर्व से अपना सिर उठाकर चल सकें।

महिला सशक्तिकरण का मुख्य लक्ष्य महिलाओं को उनका अधिकार दिलाना है। जैसे की हम सभी जानते हैं हमारा देश भारत पुरुष प्रभुत्व वाला देश है जहां पुरुषों को महिलाओं की तुलना में ज्यादा माना जाता है जो कि सही बात नहीं है।

आज भी भारत में ज्यादातर जगह महिलाओं को पुरुषों की तरह काम करने नहीं दिया जाता और उन्हें परिवार की देखभाल और घर से ना निकलने की हिदायत दी जाती है।आज के इस आधुनिक युग में 40 से 50 % महिलाएं ऐसी हैं जो शिक्षित होने पर भी घर पर ही बैठी हैं। यानी कि देश का आधा ज्ञान घर पर ही बैठे बैठे बेकार हो रहा है।

हालांकि घर पर बच्चों की देखभाल या परिवार की देखभाल करना भी जीवन का एक हिस्सा है परंतु इसका मतलब यह तो नहीं कि जीवन वहीं तक सीमित है। महिलाओं को भी पुरुषों की तरह घर से बाहर निकलना चाहिए और काम करना चाहिए क्योंकि इससे उनका ज्ञान और बढ़ता है और वह भी देश के लिए कुछ अच्छा कर सकती हैं।

हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भी कहा है कि “देश की तरक्की के लिये पहले हमें भारत के महिलाओं को सशक्त बनाना होगा। एक बार जब महिला अपना कदम उठा लेती है, तो परिवार आगे बढ़ता है, गाँव आगे बढ़ता है और राष्ट्र विकास की ओर बढ़ता है।

भारत में महिला सशक्तिकरण की कमी है, जिसके कारण आज भी भारत विकासशील देशों में गिना जाता है। अगर हमारे देश की महिलाएं सशक्त बने और पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर काम करें तो वह दिन दूर नहीं जब हमारा देश भारत भी विकसित देशों की लिस्ट में दिखेगा।

महिला सशक्तिकरण का नारा इसलिए समाज में उठा क्योंकि हमारे समाज में लिंग भेदभाव आज भी इस आधुनिक युग में हो रहा है जो कि एक बहुत ही शर्म की बात है। आज भी कई जगहों पर गैरकानूनी तरीके से लिंग की जांच करवा कर | कन्या भ्रूण हत्या जैसे महापाप हो रहे हैं। बाकी लोग घर में लड़कियों को लड़कों से कम समझ रहे हैं तो कई जगहों पर विवाह के बाद लड़कियों के साथ अत्याचार हो रहा है।

अगर हम सही नजरिए से देखेंगे तो पूर्ण रूप से महिलाओं के साथ अन्याय हो रहा है जो नहीं होना चाहिए क्योंकि इस दुनिया में हर किसी को स्वतंत्र रूप से जीने और जीवन में आगे बढ़ने का हक है। इन आने वाले सालों में सरकार ने भी महिला सशक्तिकरण के अवधारणा को बढ़ावा देने के लिए कई नए नियम और कानून तैयार किए हैं।

आशा करते हैं कि यह नियम कानून और लोगों की सोच महिलाओं को उनका हक दिलाने में मददगार साबित होंगे। हमें भी अपने महिला सशक्तिकरण के महत्व को समझना चाहिए और समाज की महिलाओं का सम्मान करना चाहिए तथा उन्हें उनका हक प्रदान करना चाहिए।

कभी माँ तो कभी बहन बनकर दुलारती है,
महिला ना जाने कैसे जीवन संवारती है,
महिला शक्ति का परचम दिखाना है,
महिलाओं को आगे बढ़ाना है …

अधिक पढ़ें :

  1. Tongue Twisters in Hindi
  2. Bhagwat Geeta Pdf
  3. Benefits of Shilajit in Hindi
  4. kriya kya hai Aur Uske kitne bhed hote hain

Table of Contents

निष्कर्ष:

Yourhindi.net पर आने के लिए धन्यवाद आशा है कि आपको महिला सशक्तिकरण पर हमारी पोस्ट पसंद आई होगी और आपका दिन मंगलमय हो..!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button