Hindi Poems

Best 30+ Hindi Poems on Mother

हेलो दोस्तों आज हमने आपके लिए Hindi Poems on Mother यानी की माँ पर हिंदी कविताएँ लिखे हैं जीने आप हमारीसाइट पर आकर पढ़ सकते हैं

स्वागत है आप सभी का हमारी वेबसाइट साइट Yourhindi.net में और आज इसके अन्दर हम आपको बताने वाले हैं सबसे बढ़िया माँ पर हिंदी कविताएँ मे जो कि बहुत ही ज़्यादा मज़ेदार होगे क्योकि इनकी लेंथ बहुत ज़्यादा बड़ी होने वाली आप सभी का दिल से दोबारा स्वागत करते हैं।

माँ पर पहले कुछ पंक्तियाँ

जीवन की कक्षा में माताएँ कालातीत शिक्षक होती हैं। महिलाएं विशेष रूप से माताओं सबसे प्रभावशाली शिक्षक हैं। वे हमारे लिए कालातीत ज्ञान, एक विरासत इतनी कीमती और मूल्यवान हैं। माताओं ने अक्सर हमारी दुनिया को क्रैडल से आकार दिया है, रॉकिंग, पोषण और बच्चों को जीवन-परिवर्तन और इतिहास बनाने वाली उपलब्धियों के लिए बड़े होने के निर्देश दिए हैं। प्रत्येक व्यक्ति के लिए, उसके पीछे एक माँ होती है जिसने अपने बच्चे की संवेदनाओं को उनकी पूरी क्षमता के लिए बढ़ावा दिया है।

हर रोज़ रहने वाली प्रयोगशाला में हाथ की हमारी सबसे शक्तिशाली शिक्षक माताएँ रहती हैं। उनकी तमाम विशेषताओं में से … जो कुछ भी नीचे आता है वह है दिल – एक माँ का दिल। इसमें कोमलता और क्रूरता, हृदय की करुणा और कर्तव्यनिष्ठा के साथ सब कुछ है। जब हम दुःखी, एकाकी, या भयभीत होते हैं, तो हमारी माँ का हाथ हमारे चारों ओर लिपटा रहता है।

माताएँ हमें ईश्वर पर विश्वास करना सिखाती हैं। माताएं हमें अपने जीवन, व्यक्तिगत प्रार्थना जीवन और भगवान की शक्ति और ज्ञान पर निर्भरता के माध्यम से भगवान के शब्द का मूल्य सिखाती हैं। एक महिला में कुछ भी उतना आकर्षक नहीं है जितना कि प्रभु का डर। ईश्वर को जानना, ईश्वर का सम्मान करना, और ईश्वर की उपासना करना वास्तव में सबसे सराहनीय प्रयास है जिसे कोई व्यक्ति कभी भी कर सकता है। माताएँ हमारे जीवन में परमेश्वर की संप्रभुता के पहले संकेतों में से एक हैं।

माताएं हमें खुद में आत्मविश्वास और विश्वास रखना सिखाती हैं। माताएं अनुभव से जानती थीं कि बच्चों के लिए संपूर्ण, मजबूत और खुद के स्वस्थ आकलन के साथ लोगों के लिए खुद पर विश्वास करना कितना महत्वपूर्ण है। एक बच्चे में आत्मविश्वास पैदा करने के लिए माता-पिता का एक तरीका अपनी सोच को पुष्ट और तेज करना है। आत्मविश्वास की एक स्वस्थ भावना एक व्यक्ति को अधिक प्राप्त करने और अधिक मनाने के परिणामस्वरूप हो सकती है। जीवन में माँ के सबक हमें खुद पर विश्वास करने की जगह देते हैं क्योंकि महानता की कोई सीमा नहीं है जिसे आप प्राप्त कर सकते हैं या जो महान चीजें प्राप्त कर सकते हैं।

माता हमें शब्दों की शक्ति सिखाती हैं। माता जो शब्द बोलती हैं उसमें शक्ति होती है। शब्द बच्चे का निर्माण कर सकते हैं या उसे फाड़ सकते हैं।

जैसे ही हम उनसे बात करते हैं, हम अपने बच्चों को कैसे आकार दे रहे हैं? क्या आप एक कुम्हार की तरह हैं, अपने बच्चों के दिलों की कोमल मिट्टी को कुछ समय में एक हल्के मार्गदर्शक हाथ से और दूसरों पर एक कोमल दबाव के साथ आकार देते हैं? या आप एक मूर्तिकार हैं, हथौड़ों, छेनी, और चाकू जैसे अपने शब्दों का उपयोग कर रहे हैं क्योंकि आप बहुत व्यस्त हैं और कृपया धैर्य से बोलने और धैर्य रखने पर जोर देते हैं?

जब आपके बच्चे आपके साथ एक वार्तालाप समाप्त करते हैं, तो क्या वे प्यार और देखभाल के साथ आपके शब्दों द्वारा ढाले जाने की प्रक्रिया में ठीक मिट्टी के बर्तनों की तरह दिखते हैं या क्या वे पत्थर की तरह दिखते हैं, उनके दिल के कुछ हिस्सों को नकारात्मक, तेज या गुस्से वाले शब्दों से छीन लिया गया था ।

हम जो कहते हैं, उससे बहुत सावधान रहें। याद रखें कि मृत्यु और जीवन, आशीर्वाद और शाप हमारी जीभ की शक्ति में हैं। हमारे मुंह के शब्दों से, हम किसी और के जीवन में महानता या लघुता प्रदान कर सकते हैं। आप और मैं एक सपने की लौ को भड़क सकते हैं या आप और मैं इसे सूँघ सकते हैं। हम अपने शब्दों का उपयोग अच्छे के लिए करें।

माताएँ हमें प्रार्थना करना सिखाती हैं। उदाहरण के द्वारा प्रार्थना सिखाई जाती है। यह जीवित है और यह एक विरासत है जो हमारे बच्चों को दी जाती है। एक महिला जो ईश्वर से बात कर सकती है और उससे सुन सकती है, वह ताकत है और सौंदर्य जैसा कोई दूसरा नहीं।


“माँ का एक औंस पुजारी के एक पाउंड के लायक है”, एक पुरानी स्पेनिश कहावत है। एक माँ की प्रार्थना एक अनमोल उपहार है, एक असली ख़ज़ाना है, सत्ता का सबसे मजबूत दिल है। यदि आपके पास एक माँ है जो आपके लिए प्रार्थना करती है, तो आप वास्तव में धन्य हैं।

माताएं हमें अपनी विरासत को जीना सिखाती हैं। पवित्रशास्त्र निश्चित रूप से हमें यह याद दिलाने के बारे में है कि हम जो बोते हैं वही काटेंगे, और हम में से कई के लिए, हमारी माताओं – हमारे जीवन की सबसे बड़ी महिलाओं ने सत्य, ज्ञान, आनंद और शांति के सुंदर बीज बोए, एक आध्यात्मिक फसल जो अब फल दे रही है हमारे और हमारे बच्चों में। माताओं ने हमेशा एक अंतर बनाया है और ऐसा करना जारी रखेगा।

माताओं ने अक्सर हमारी दुनिया को पत्थरबाजी, पोषण और निर्देशन करके उन बच्चों को आकार दिया है जो बड़े होते हैं जो जीवन-परिवर्तन और इतिहास बनाने वाली उपलब्धियां बनाते हैं। प्रत्येक उपदेशक, अध्यक्ष, स्वयंसेवक कार्यकर्ता, कर्मचारी, फ़ैशनिस्टा, तकनीशियन, सामुदायिक कार्यकर्ता, डॉक्टर, दूसरों के बीच देखभाल करने वाले के लिए, उनके पीछे एक माँ होती है जिसने अपने बच्चे को उसकी पूरी क्षमता तक पहुँचने के लिए प्रेरित किया।

Heart touching short Poems on mother in Hindi

नींद अपनी भुला के सुलाया हमको
आँसू अपने गिवा के हँसाया हमको |
दर्द कभी न देना उन हस्तियों को |
खुदा ने माँ-बाप बनाया जिनको

मां तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है,
मां की हर दुआ कबूल है ,
मां को नाराज करना इंसान तेरी भूल है
, मां के कदमो की मिट्टी जन्नत की धूल है !!


माँ भगवान का दूसरा रूप
माँ भगवान का दूसरा रूप उनके लिए दे देंगे जान
माँ दिन जीवन है अधुरा खाली-खाली सुना-सुना
हमको मिलता जीवन उनसे कदमो में है स्वर्ग बसा
खाना पहले हमे खिलाती बादमे वह खुद खाती
संस्कार वह हमे बतलाती अच्छा बुरा हमें बतलाती
हमारी वशी में खुश हो जाती दुःख में हमारी आँसू बहाती
हमारी गलतियों को सुधारती प्यार वह हमपर बरसती.
कितने खुश नसीब है हम
पास हमारे है माँ होते बदनसीब वो कितने जिनके पास ना होती माँ…
तबियत अगर हो जाए खराब रात-रात भर जागते रहना


माँ तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है
माँ की हर दुआ कबूल है,
ऐ इंसान… माँ को नाराज करना
तेरी भल है माँ के कदमों की मिट्टी…..
जन्नत की धूल है


मातृ दिवस पर कविता –
ओ माँ प्यारी माँ प्यारा तूने हमको किय
कितना प्यार तेरा हमको मिला इतना
जितना खुदा ने बनाया उतना ओ माँ
प्यारी माँ ओ माँ प्यारी माँ सोचा है
तूने हमारा कितना सोचे है
तू माँ मेरी इतना सोच नहीं पाया है
कोई इतना ओ माँ प्यारी माँ ओ माँ प्यारी माँ
जिन्दगी की धुप में जब थके हम माँ
आशुं हमारे जब आये मेरी माँ ममता का पल्लू निछाया तूने माँ


मेरी मम्मी को बुला दे कोई
मेरी मम्मी को बुला दे कोई,
वरना मुझको ही सुला दे कोई, मुझको तो बिस्तर की आदत ही नहीं,
अपनी गोदी में झुला दे कोई,

भरी थीमुझमें विश्वास की शक्ति निर्भय हो जाने की और
जीतने की शक्ति जिया में! मेरी माँ और
जीता में कयामत के दिन मिलेगा तुझसे
तेरा कलाम माँ तुझे मेरा सलाम

best Hindi poems on mother

गंगा बन कर भरी कठौती।
बड़ी हुई मैं हँसती रोती,
आँख दि खाती जो हद खोती।
शब्द नहीं माँ कैसी होती,
माँ तो बस माँ जैसी होती।
आज हूँ जो, वो कभी न होती,
मेरे संग जो माँ ना होती।

[2]

माँ के लिए सम्भव नहीं होगी
मुझसे कविता अमर चींटियों का एक दस्ता मेरे मस्तिष्क में रेंगता रहता है।
माँ वहाँ हर रोज चुटकी-दो-चुटकी आटा डाल देती है
मैं जब भी सोचना शुरू करता हूँ
यह किस तरह होता होगा घट्टी
पीसने की आवाज मुझे घेरने लगती है और
मैं बैठे-बैठे दूसरी दुनिया में ऊँघने लगता हूँ
जब कोई भी माँ छिलके उतार कर चने,
मूंगफली या मटर के दाने नन्हीं हथेलियों
पर रख देती है तब मेरे हाथ अपनी जगह पर थरथराने लगते हैं
माँ ने हर चीज के छिलके उतारे मेरे लिए देह,
आत्मा, आग और पानी तक के छिलके उतारे
और मुझे कभी भूखा नहीं सोने दिया
मैंने धरती पर कविता लिखी है
चन्द्रमा को गिटार में बदला है
समुद्र को शेर की तरह आकाश के पिंजरे में खड़ा कर दिया
सूरज पर कभी भी कविता लिख दूंगा माँ पर नहीं लिख सकता कविता!

[3]

मेरी माँ – हृदयस्पर्शी कविता
घुटनों से रेंगते रेंगते कब पैरों पर खड़ा हुआ,
मैं ही मैं हूँ हर जगह प्यार यह तेरा कैसा है?
तेरी ममता की छाओं में सीधा साधा भोला
भाला जाने कब बड़ा हुआ! मैं ही सबसे अच्छा हूँ,
काला टीका दूध मलाई कितना भी हो जाऊं बड़ा
आज भी सब कुछ वैसा है, माँ, मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ!
हमारे हर मर्ज की दवा होती है माँ…
कभी डाँटती है हमें, तो कभी गले लगा
लेती है माँ…..
हमारी आँखों के आंसू, अपनी आँखों में
समा लेती है माँ….
अपने होठों की हँसी, हम पर लुटा देती है
माँ…..
हमाटी खुशियों में शामिल होकर, अपने
गम भुला देती है माँ….
जब भी कभी ठोकर लगे, तो हमें तुरंत
याद आती है माँ…..
दुनिया की तपिश में, हमें आँचल की
शीतल छाया देती है माँ…..
खुद चाहे कितनी थकी हो, हमें देखकर
अपनी थकान भूल जाती है माँ….

[4]

माँ
माँ और माँ का प्यार निराला
उसने ही है मुझे सम्भाला
मेरी मम्मी बड़ी प्यारी
मेरी मम्मी बड़ी निराली
क्या मैं उनकी बात बताऊ
सोचू ! उन्हे कैसे में जान पाऊ
सुबह सवेरे मुझे उठाती
कृष्णा कह कर मुझे जगाती
जल्दी से तैयार में होता
उसके कारण स्कूल जा पाता
स्कूल से आते ही खुश होता
जब मम्मी का चहेरा दिखता
पोष्टिक भोजन मुझे खिलती
गृह कार्य भी पूरी करवाती
माँ और माँ का प्यार निराला
पर में करता गड़बड़ घोटाला
जब मैं करता कोई गलती
समझाने की कोशिश करती
लुटाती मुझ पर अधिक प्यार
करती मुँझ से अधिक दुलार
मुझ पर गुस्सा जब है आता
दो मिनट में उड़ भी जाता
मेरी मम्मी मेरी जान
रखती मेरा पूरा ध्यान
माँ और माँ का प्यार निराला
उसने ही है मुझे सम्भाला

[5]

एक कविता हर माँ के नाम
घुटनों से रेंगते-रेंगते,
कब पैरों पर रबड़ा दुसा।
तेरी ममता की टाँव में,
जाने का बड़ा हु सा
काला टीका यमलाई
आज नी सब कुछ वैसा है,
मैंदी मैं हूँ हर जगह,
प्यार ये रोग कैसा है।
सौम्यासाचा, भोला-भाला,
मैं ही सबसे अच्छा हूँ।
कितना भी होनाहा,
माँ मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ


Hindi poems on mother with pictures

मां बिन जीवन है अधूरा
खाली-खाली सूना-सूना
खाना पहले हमें खिलाती
बाद में वह खुद है खाती
हमारी खुशी में खुश हो जाती
दुख में हमारे आंसू बहाती
कितने खुसनसीब हैं हम
पास हमारे है मां
होते बदनसीब वे कितने
जिनके पास न होती मां

मंजिल दूर और सफ़र बहुत है
. छोटी सी जिन्दगी की फिकर बहुत है
. मार डालती ये दुनिया कब की हमे
. लेकिन “माँ” की दुआओं में असर बहुत है


Small Hindi Poems on Mother

सास…
मेरे गांव में बड़ी दिक्कत ओसेंच्या.
मुझे झंडे मेरी सास,तेरी गेल्या,
समय ना देखे समडोना कोई भाव,
हरवार नेतावनी,२३रसारे सुझाव,
ना करने दे कोई कामकाज सभी,
बोले जीले सुख के दिन सभी,
कहे गुमले सेग्मगाजी के संग.
देख ले दुनिया के सभी रंग,
गा कह सकुनी तुझे मेरी आपबीती,
काश ससुरोलको सुखने भी देख पाती,
रहा खरगल रूभी नाराज नाहों मेरा लाल,
वरना में भी शुरू कल्ली बहु तेरे हाल,
मेरे ही इसाल के ये सभी सुहाने पल,
पर जल्द ही चाहीये मुझे इस प्यार का फल,
ससुराल को अपनालं ना बन गवार,
मायकेका प्यार रख ले थोडा सवार,
माना कं महइस घर की महारानी,
गार ससुराल की शोभा हे तझसे बहुरानी

[2]

भगवान का दूसरा रूप है मां
उनके लिए दे देंगे जा
हमको मिलता जीवन उनसे
कदमों में है स्वर्ग बसा
संस्कार वह हमें सिखलाती
अच्छा-बुरा हमें बतलाती
हमारी गलतियों को सुधारती
प्यार वह हम पर बरसाती
तबीयत अगर हो जाए खराब
रात-रात भर जागते रहना

[3]

गुलामी की तोड़ बेड़ी,
फैला रही हैं मानस पंख।
विश्व सजग हो जाओ सुन,
बज रहा भारती का जय-शंख।।

[4]

भगवान का दूसरा रूप है माँ,
उनके लिए दे देंगे जां,
हमको मिलता जीवन उनसे,
कदमो में है स्वर्ग बसा,
हमारी खुशी में खुश हो जाती,
दुःख में हमारे आंसू बहाती,
कितने खुशनसीब है हम,
पास हमारे है माँ।
हैप्पी मदर्स डे

[5]

माँ पर कविता
घुटनों से रेंगते रेंगते,
कब पैरोपर खड़ाहुआ।
तेरीममताकीछाओमें,
जाने कब बड़ाहुआ
कालाटिका दूधमलाई
आज भी सबकुछ वैसा है।
मैंही मेंहूँहरजगह,
प्यारयेतेरा कैसा है
सीधा-साधा, भोला-भला,
मैंहीसबसे अच्छाहूँ।
कितना भी होजा ऊ बड़ा,
माँ! मैं आज भी तेरा बच्चा हूँ

[6]

माँ से रिश्ता ऐसा बनाया जाए
, जिसको निगाहों में बिठाया जाए,
रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ ऐसे कि,
वो अगर उदास हो तो हमसे भी मुस्कुराया ना जाए.

हैप्पी मदर्स डे

[7]

बड़ी हा जतन से पाला है माँ ने,
हर एक मुशिकल को टाला है
माँ ने उंगली पकड़ के चलना सिखाया,
जब भी गिरे तो संभाला है माँ ने प्यारी मम्मी

[8]

मेरी मम्मी कितनी प्यारी,
लगती है दुनिया से न्यारी |
मुझे खिलाती दूध मलाई,
दही जलेबी और मिठाई |
जब होता है पढ़ने जाना
, डिब्बे में रख देती खाना |

Conclusion:

Thank you for visiting yourhindi.net hope you liked our Hindi Poems on Mother. If you liked this post of ours, then do share it with your friends on your social media. I would suggest you read Hindi Poems on Love post. Have a good day..!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also
Close
Back to top button