Hindi Grammar

Bhav Vachak Sangya – भाव वाचक संज्ञा

Bhav Vachak Sangya: नमस्कार, दोस्तों आपका एक बार फिर से Yourhindi.net में स्वागत है, आज इस लेख में हम मुख्य रूप से भाववाचक संज्ञा की परिभाषा और सभी को उदाहरणों के साथ एक-एक करके समझ गए. चलो शुरू करते हैं।

Table of Contents

भाववाचक संज्ञा की परिभाषा

जो शब्द किसी व्यक्ति या पदार्थ की अवस्था, दशा या भाव का बोध कराते हैं, उन शब्दों को भाववाचक संज्ञा कहते हैं।

दूसरे शब्दों में: जिन संज्ञा शब्दों से पदार्थों की अवस्था, गुण-दोष, धर्म, दशा, आदि का बोध हो वह भाववाचक संज्ञा कहलाता है।

जैसे- बचपन, बुढ़ापा, मोटापा, मिठास, उमंग, चढाई, थकावट, मानवता, चतुराई, जवानी, लम्बाई, मित्रता, मुस्कुराहट, अपनापन, परायापन, भूख, प्यास, चोरी, क्रोध, सुन्दरता आदि

बुढ़ापा- बुढ़ापा जीवन की एक अवस्था है।
मिठास- मिठास मिठाई का गुण है।
क्रोध- क्रोध एक भाव या दशा है।

भाववाचक संज्ञा बनाना

भाववाचक संज्ञा शब्द पांच प्रकार से बनती हैं

  • जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा
  • सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा
  • क्रिया से भाववाचक संज्ञा
  • विशेषण से भाववाचक संज्ञा
  • अव्यय से भाववाचक संज्ञा

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

मनुष्यमनुष्यता
मित्रमित्रता
प्रभप्रभता
बच्चाबचपन
शैतानशैतानी
शत्रशत्रता
समाजसामाजिकता
मूर्खमूर्खता
डाकूडकैती
मातामातृत्व

सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा बनाना

अपनाअपनापन अपनत्व
निजनिजत्व, निजता
परायापरायापन
स्वस्वत्व
सर्वसर्वस्व
निजनिजत्व
ममममता, ममत्व
अहंअहंकार

विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना

अच्छाअच्छाई
सुन्दरसुन्दरता, सौंदर्य
शीतलशीतलता
सफलसफलता
कायरकायरता
चतुरचातुर्य, चतुराई
निर्बलनिर्बलता
बड़ाबड़प्पन
कातरकातरता
मधुरमधुरता, माधुर्य
छोटाछुटपन
भलाभलाई
तीखातीखापन
मीठामिठास

क्रिया से भाववाचक बनाना

पढ़नापढाई
जोड़नाजोड़
खोजनाखोज
सीनासिलाई
जितनाजीत
रोनारुलाई
लड़नालड़ाई
पढनापढाई
चलनाचाल, चलन
खेलनाखेल
थकनाथकावट
लिखनालेख
हँसनाहँसी
दौड़नादौड़

अव्यय से भाववाचक संज्ञा बनाना

परस्परपारस्पर्य
समीपसामीप्य
निकटनैकट्य
शाबाशशाबाशी
वाहवाहवाहवाही
धिक्धिक्कार
शीघ्रशीघ्रता
दूरदुरी
मनामनाही

व्यक्तिवाचक संज्ञा का जातिवाचक संज्ञा के रूप में प्रयोग

  • आज के युग में जयचंदों की कमी नहीं।
  • वह हरिश्चंद्र से कम नहीं।
  • भारत को सीता-सावित्री का देश कहा जाता है।
  • विभीषणों से सावधान रहो।

कुछ व्यक्तियों के जीवन में प्रायः अन्य लोगों के जीवन से भिन्न कोई ऐसी विशेषता, गुण अथवा अवगुण होता है, जिसके कारण उनका नाम उस गण या अवगुण का प्रतिनिधित्व करने लगता है। ऐसी स्थिति में वह नाम व्यक्ति विशेष का नाम होकर भी जातिवाचक शब्द बन जाता है।

जातिवाचक संज्ञा का व्यक्तिवाचक संज्ञा के रूप में प्रयोग

  • स्वतंत्रता के बाद पंडित जी ने देश की बागडोर सँभाली।
  • महात्मा जी ने अहिंसा का महत्व समझाया।
  • नेताजी ने कहा ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।
  • शास्त्री जी को कोई नहीं भुला सकता |
  • गोस्वामी जी की रामायण का घर-घर पाठ होता है।

कभी-कभी कुछ जातिवाचक शब्द किसी व्यक्ति विशेष या स्थान-विशेष के अर्थ में रूढ़ हो जाते हैं, तब वे जाति का बोध न कराकर एक व्यक्ति या स्थान-विशेष का बोध कराते हैं।

भाववाचक संज्ञा शब्दों का जातिवाचक संज्ञा के रूप में प्रयोग

  • हम सभी में बुराइयाँ पाई जाती है।
  • दूरियों से अपनापन कम नहीं होता।
  • ऊंचाइयों पर चढ़ने के लिए मेहनत करो।

प्रायः भाववाचक संज्ञा शब्दों का प्रयोग एकवचन में ही किया जाता है। किंतु जब भाववाचक संज्ञा शब्द बहुवचन में प्रयुक्त होते तब वे जातिवाचक संज्ञा कहलाते है

[FAQ] भाव वाचक संज्ञा पर पूछे जाने वाले सवाल

भाववाचक संज्ञा शब्द पांच प्रकार से बनती हैं

  • जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा
  • सर्वनाम से भाववाचक संज्ञा
  • क्रिया से भाववाचक संज्ञा
  • विशेषण से भाववाचक संज्ञा
  • अव्यय से भाववाचक संज्ञा

जिन संज्ञा शब्दों से पदार्थों की अवस्था, गुण-दोष, धर्म, दशा, आदि का बोध हो वह भाववाचक संज्ञा कहलाता है।

जैसे- बचपन, बुढ़ापा, मोटापा, मिठास, उमंग, चढाई, थकावट, मानवता, चतुराई, जवानी, लम्बाई, मित्रता, मुस्कुराहट, अपनापन, परायापन, भूख, प्यास, चोरी, क्रोध, सुन्दरता आदि

उदाहरण:

  • बुढ़ापा - बुढ़ापा जीवन की एक अवस्था है।
  • मिठास - मिठास मिठाई का गुण है।
  • क्रोध - क्रोध एक भाव या दशा है।
भारतीय भारत की भाववाचक संज्ञा है।
स्वास्थय स्वच्छ की भाववाचक संज्ञा है।
बचपन की भाववाचक संज्ञा है।

निष्कर्ष:

Yourhindi.net पर आने के लिए आपका धन्यवाद आशा है कि आपको हमारा पोस्ट Bhav Vachak Sangya पसंद आया होगा। अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें। मैं आपको सुझाव दूंगा कि कृपया Sawar ke kitne bhed hote hain पोस्ट को पढ़ना चाहिए। आपका दिन शुभ हो..!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button